कोरानो टेस्टिंग फर्जीवाडे में मेला स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी और नोडल अधिकारी निलंबित, मेला स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने नियमों को ताक पर रखकर कोरोना टेस्टिंग के लिए एजेंसियां तय करने के आरोप में स्वास्थ्य मंत्रालय ने की कार्रवाई

हरिद्वार । कुंभ मेले के दौरान कोरानो टेस्टिंग फर्जीवाडे में मेला स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी और नोडल अधिकारी को निलंबित कर दिया है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री धन सिंंह रावत ने इस संबंध में जानकारी दी। कुंभ मेले के दौरान श्रद्धालुओं की कोरोना जांच के लिए दो दर्जन सरकारी और निजी एजेसियां अनुबंधित की गई थी। इनमें दो एजेसियां मैसर्स मैक्‍स कारपोरेट सर्विसेज के अधीन काम कर रही थी। इन्‍हीं की जांच में करीब एक लाख फर्जी टेस्टिंग पकडी गई। पंजाब के एक व्‍यक्ति की शिकायत पर यह मामला खुला था। इस व्‍यक्ति के माेबाइल पर कोरोना जांच का मैसेज पहुंचा था, जबकि वह उस दौरान न तो हरिद्वार गए और न ही उनकी कहीं कोरोना जांच हुई थी। इसके बाद आइसीएमआर के हस्‍तक्षेप पर राज्‍य सरकार ने मामले की जांच बिठाई थी। प्रशासनिक स्‍तर पर सीडीओ की अध्‍यक्षता वाली कमेटी को इसकी जांच सौंपी गई, जबकि पुलिस के स्‍तर एसआइटी जांच कर रही है। प्रशासनिक जांच रिपोर्ट हालिया दिनोें में सरकार को मिली थी। आरोप है कि मेला स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने नियमों को ताक पर रखकर कोरोना टेस्टिंग के लिए एजेंसियां तय कीं। जांच रिपोर्ट के आधार पर वीरवार को स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने मेला स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी डा अर्जुन सेंगर और नोडल अधिकारी एनके त्‍यागी को निलंबित कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.