मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 88 वें अखिल भारतीय श्रद्धानंद हाॅंकी टूर्नामेंट का किया शुभारम्भ, कहा श्रद्धानंद ने भारत में तत्कालीन कुरीतियों के विरूद्ध सबसे पहले आवाज उठायी और उन पर प्रहार किया

हरिद्वार । मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह आज स्वामी श्रद्धानंद के 93वें बालिदान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे। यहां पहुंच मुख्यमंत्री ने 88 वें अखिल भारतीय श्रद्धानंद हाॅंकी टूर्नामेंट का शुभारम्भ भी किया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि स्वामी श्रद्धानंद ने भारत में तत्कालीन कुरीतियों के विरूद्ध सबसे पहले आवाज उठायी और उन पर प्रहार किया। उन्होनंे भेदभाव और छुआछूत जैसे कलंक के विरूद्ध लड़ाई शुरू की। स्वामी श्रद्धानंद ने एक सन्यासी होने के धर्म को निभाते हुए सभी को सत्य और सामाजिक हित के कार्यो से समाज को अवगत कराया। उन्होंने वर्तमान परिस्थितियों पर बालेते हुए कहा कि आज भारत परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है। आज भले ही किसी को पीड़ा हो लेकिन ये भविष्य के भारत को मिलने वाले सकून की निशानी है। ये सक्रांति का काल है जिससे वास्तविक भारत की उत्पत्ति होगी। आज की सभी तकलीफे सुख आने से पहले का अनुभव मात्र हैं।  उन्होंने ऐसे समय में देवभूमि और शांतिप्रिय प्रदेश होने की गरीमा को बनाये रखने का जो परिचय प्रदेशवासियों द्वारा दिया गया है उसकी प्रशंसा की और सभी का आभार और धन्यवाद प्रकट किया। उन्होंने इसी प्रकार धैर्य और शांति बनायी रखने की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान स्वतंत्रत और लोकतंत्र भारत के लिए बलिदान देने वाले स्वामी श्रद्धानंद जैसे अनेक महान पूर्वजों को हमें सदैव स्मरण रखना चाहिए। इसके बाद मुख्यमंत्री ने जिला पंचायत कार्यालय मायापुर पहुंचे । वह नवनिर्वाचित जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए। जिलाधिकारी दीपेंद्र कुमार चौधरी ने मुख्यमंत्री के समक्ष समस्त जिला पंचायत सदस्यों की उपस्थिति में वर्मा को पद एवं गोपनियता की शपथ दिलायी। इस अवसर पर रूड़की मेयर गौरव गोयल, उपाध्यक्ष बीस सूत्री कार्यक्रम नरेश बंसल, मुख्य विकास अधिकारी विनीत तोमर सहित अनेक लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *