अपराधिक गतिविधियों में संलिप्त पुलिसकर्मी जाएंगे जेल, 80 फीसद अधिक अपराधियों का पर्दाफाश करने में कामयाब रही उत्तराखंड पुलिस: डीजीपी

मंगलौर। पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) अशोक कुमार ने कहा है कि बेहतर कानून व्यवस्था और अपराध पर अंकुश लगाने के लिए जन सहयोग जरूरी है। साथ ही उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि नशे का कारोबार किसी भी सूरत में नहीं होने दिया जाएगा। यदि इसमें किसी पुलिसकर्मी की संलिप्तता मिलती है तो उसको जेल भेजा जाएगा। सड़क हादसों को रोकने की दिशा में ठोस कदम उठाए जाए। साथ ही, शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों पर सख्ती की जाए। शुक्रवार को मंगलौर कोतवाली में आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि पूरे प्रदेश की बात की जाए तो उत्तराखंड पुलिस 80 फीसद से अधिक अपराधों का पर्दाफाश करने में कामयाब रही है। पिछले दिनों चमोली जिले में आई आपदा में पुलिस के अलावा राज्य आपदा मोचन बल ने सराहनीय कार्य किया है। उन्होंने कहा कि अपराध नियंत्रण में आमजन की भागेदारी को नकारा नहीं जा सकता है। आम आदमी का सहयोग लेकर पुलिस बड़े से बड़े अपराधी और अपराध की कमर तोड़ सकती है, लेकिन इसके लिए पुलिस को जनता के अंदर विश्वास जगाना होगा। उन्होंने एसएसपी को निर्देश दिए कि वह पूरे जिले में दुर्घटना वाले प्वाइंट को चिह्नित कर उनकी रिपोर्ट दें, ताकि इस संबंध में फौरी कदम उठाए जा सके। हेलमेट नहीं होने पर बीस फीसद तक ही चालान करें, दोपहिया वाहन चालक का दो हजार से अधिक का चालान न करें। लेकिन, ओवरलोड, ओवरस्पीड और नशा कर वाहन चलाने के मामले में जितनी सख्त हो सके, कार्रवाई की जानी चाहिए। कार्यक्रम में डीआइजी नीरू गर्ग, एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस, रुड़की शहर विधायक प्रदीप बत्रा, काजी निजामुद्दीन, फुरकान अहमद, ममता राकेश, देशराज कर्णवाल,मेयर गौरव गोयल, पालिका चेयरमैन हाजी दिलशाद, डीसीबी चेयरमैन प्रदीप चौधरी, मंडल अध्यक्ष अंकित कपूर आदि मौजूद रहे।
जनसंवाद कार्यक्रम के तहत ग्रामीणों ने डीजीपी को बताया कि लंढौरा चौकी को थाने में बदले जाने का प्रस्ताव लंबे समय से लंबित है। साथ ही, सिकरौढ़ा, बसवाखेड़ी, ढंडेरा, बेलड़ा में पुलिस चौकी खोली जानी चाहिए। इस पर डीजीपी ने आश्वासन दिया कि वह इस संबंध में जल्द कार्रवाई करेंगे। साथ ही, उन्होंने बताया कि कोई भी व्यक्ति 112 नंबर पर शिकायत कर सकता है। शिकायत के कुछ समय बात ही चेतक पुलिस मौके पर पहुंचेगी। सभी चेतक पुलिसकर्मियों के नंबर फेसबुक पेज पर भी अपलोड किए जाएंगे, ताकि संबंधित व्यक्ति तत्काल फोन कर सके। जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान समीर आलम और सुनील कुमार ने कहा कि बड़ी संख्या में ग्रामीण व अन्य व्यक्ति कांवड़ पटरी से होकर जाते हैं, लेकिन कांवड़ पटरी पर अवैध रूप से टोल प्लाजा संचालकों ने अवैध रूप से बैरियर लगाकर उगाही शुरू कर दी है। इस पर डीजीपी ने निर्देश दिए कि अवैध उगाही करने वालों के खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई करे। ऐसे व्यक्तियों पर मुकदमा दर्ज किया जाए। जनता का उत्पीड़न किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं होगा। पुलिस का काम जनता को कानून के दायरे में रखकर सेवा उपलब्ध कराना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *