रणजी ट्राफी में उत्तराखण्ड का प्रदर्शन बेहद खराब रहा, पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी ने कहा हरिद्वार की क्रिकेट प्रतिभाओं को तराशने के लिए कोई कारगर कदम नहीं उठाए जा रहे

हरिद्वार । पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी रोहन सहगल ने रणजी ट्राफी में उत्तराखण्ड के खराब प्रदर्शन करने पर चिंता जाहिर करते हुए सुधार किए जाने की मांग की है। प्रैस क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए रोहन सहगल ने कहा कि रणजी ट्राफी में उत्तराखण्ड का प्रदर्शन बेहद खराब रहा है। इलीट ग्रुप में खेलते हुए टीम 9 में से 7 मैच हार गयी। इसका परिणाम यह हुआ कि टीम इलीट ग्रुप से निकलकर सबसे निचले प्लेट ग्रुन में पहुंच गयी है। अगले सत्र में टीम को प्लेट गु्रप में खेलना होगा। ऐसे में टीम चयन व टीम प्रबंधन पर सवाल खड़े होते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि प्रदेश में प्रतिभावान क्रिकेट खिलाड़ियों की कोई कमी है। हरिद्वार जनपद के ऋषभ पंत व अंडर 19 में खेल रहे शाश्वत रावत इसकी मिसाल हैं। हरिद्वारआवश्यकता खिलाड़ियों को अवसर व सुविधाएं प्रदान करने की है। इस क्रिकेट सीजन में उत्तराखण्ड ने विभिन्न गु्रप में 7 बड़े टूर्नामेंट में प्रतिभाग किया। लेकिन हरिद्वार के 7 खिलाड़ी भी प्रदेश की किसी टीम में जगह नहीं बना पाए। हरिद्वार की क्रिकेट प्रतिभाओं को तराशने के लिए कोई कारगर कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी सहयोग प्रदान करना चाहते हैं। लेकिन उनका सहयोग भी नहीं लिया जा रहा है। शहर में भल्ला कालेज स्टेडियम जैसी सुविधा होने के बावजूद को खिलाड़ियों को अच्छी पिच तक नहीं मिल पा रही है। जिससे प्रतिभावान खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन भी नहीं कर पाते हैं। रोहन सहगल ने कहा कि टीम प्रबंधन को बड़ा मन दिखाकर पूर्व खिलाड़ियों सहयोग लेना चाहिए व दूसरी एसोसिएशन से जुड़े खिलाड़ियों को भी अवसर प्रदान करने चाहिए। चयन में सभी को समान रूप से अवसर मिलने चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि हाल ही जनपद के खिलाड़ियों का पंजीकरण किए जाने में अव्यवस्थाएं हावी रही। कई खिलाड़ियों को पंजीकरण कराने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा। रोहन सहगल ने कहा कि समस्याएं दूर किए जाने के लिए वे बीसीसीआई को पत्र लिखेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *