मसूड़ों की समस्या से हैं परेशान, तो इन घरेलू उपचारों से मिलेगी राहत, जानिए

कई लोगों को समय-समय पर मसूड़ों से खून आने की परेशानी होती है। मसूड़ों मे माध्यम से खून आने के पीछे कई प्रकार की वजहें हो सकती हैं। जैसे ज्यादा दबाव के साथ ब्रश करना या ब्रश करते वक़्त टूथब्रश के ब्रिस्टल्स से मसूड़ों में चोट लग जाने से भी कई बार मसूड़ों से खून आने की समस्या हो जाती है। इसके अलावा कई बार यह खराब ओरल हेल्थ की तरफ भी संकेत करता है। डॉक्टर दामिनी अग्रवाल के अनुसार अपने दांतों की देखभाल करना महत्वपूर्ण तो है, लेकिन बहुत से लोग मसूड़ों की देखभाल करना भूल जाते हैं। दरअसल मसूड़े आपके ओरल हाइजिन के महत्वपूर्ण हिस्सों में आते हैं। चूंकि ओरल हेल्थ का नाम सुनते ही अक्सर लोग दांत की बात करते हैं लेकिन दांत के साथ-साथ मसूड़े भी हमारी सेहत का एक अहम हिस्सा है। डॉ दामिनी कहती हैं कि यदि ब्रश करते समय आपके मसूड़ों से खून आता है तो हो सकता है कि आपके मसूड़ों में हल्की सूजन हो, दरअसल मसूड़ों से खून आना बहुत आम है। ऐसे में सबसे अच्छी सलाह यही है कि ऐसा महसूस होने पर आप अपने डेंटिस्ट के पास जाएं। हालांकि, डॉक्टर का कहना है कि कुछ घरेलू उपचार हैं जो मसूड़ों से खून आना और मसूड़ों में सूजन को रोकने में मदद कर सकते हैं।

लौंग का तेल: लौंग का तेल सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक माना जाता है, यह मसूड़े की सूजन को कम करने और ब्लीडिंग को रोकने में मदद करता है। थोड़ा सा लौंग का तेल लें और इसे सीधे अपने मसूड़ों पर मले या लौंग के एक या दो टुकड़े चबाएं। इससे आपको हल्की जलन महसूस हो सकती है मगर यह सूजन को कम करने में मदद करेगा।

एलोवेरा: एलोवेरा में कई चिकित्सीय गुण होते हैं और उनमें से एक है मसूड़ों की सूजन को कम करना। थोड़ा सा एलोवेरा पल्प लेकर अपने मसूड़ों पर मालिश करें फिर कुछ देर बाद इसे धुल लें। इसके अलावा प्राकृतिक एलोवेरा जेल वाले तरल पदार्थों का सेवन भी मसूड़ों की हल्की बीमारियों से बचा जा सकता है।

नियमित रूप से ब्रश और फ्लॉसिंग करना: इलाज से बेहतर बचाव होता है। अपने मसूड़ों का ख्याल रखने के लिए, एक बार फ्लॉसिंग के साथ दिन में दो बार ब्रश करना शुरू करें। यह न केवल आपको एक सफेद दांत पाने में मदद करेगा, बल्कि यह मसूड़ों की कई बीमारियों और दांतों की समस्याओं को दूर रखने में भी मदद करेगा।

धूम्रपान छोड़ें: तंबाकू आपके ओरल स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है। धूम्रपान आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम कर सकता है, जिससे आपके शरीर के लिए प्लाक से लड़ना कठिन हो जाता है। फलस्वरूप आपको मसूड़े की बीमारी हो सकती है।

विटामिन सी: आंवला और नींबू विटामिन सी के समृद्ध स्रोत हैं और मसूड़ों की सूजन को कम करने में मदद करते हैं। रोजाना आधा आंवला या नींबू का सेवन विटामिन सी की कमी को पूरा करने में फायदेमंद होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *