नववर्ष पर हवन और श्रीमद् भागवत कथा शुरू, मेयर ने कहा हवन यज्ञ और पूजन से आत्म शांति मिलती है

रुड़की । नव वर्ष के पहले दिन मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना हुई इस बीच नव वर्ष के उपलक्ष में सोना देवी मंदिर में हवन किया गया। जबकि साकेत क्षेत्र में कलश यात्रा निकाली गई । श्रद्धालुओं ने सभी के लिए नव वर्ष की मंगल की कामना की और 1008 मंत्रों से विशेष आहुतियां देकर सबके कल्याण की प्रार्थना की गई। पुरानी तहसील के सोना देवी मंदिर में आयोजित पूजन में पंडित रमेश सेमवाल ने कहा अनुष्ठान से देवता प्रसन्न होते हैं और नवचेतना आती है। मेयर गौरव गोयल ने कहा कि हवन यज्ञ और पूजन से आत्म शांति मिलती है और प्रत्येक व्यक्ति को अपनी दिनचर्या में पूजा-पाठ को स्थान अवश्य देना चाहिए। उन्होंने कहा कि नववर्ष की शुरूआत हवन पूजन के साथ की जा रही है। आशा करते हैं कि सभी लिए नववर्ष मंगलमय होगा। उन्होंने कहा है कि नववर्ष के पहले दिन सभी को सामाजिक बुराइयों को त्याग कर अच्छे कार्यों की ओर बढ़ना चाहिए। इस अवसर पर आयोजित यज्ञ में 1008 मंत्रों से विशेष आहुतियां देकर विश्व कल्याण की कामना की गई। इस अवसर पर इंदर बधान, रवींद्र राणा, तनुज राठी, अखिलेश गुप्ता, शिवम शर्मा, राधा भटनागर, सुलक्षणा सेमवाल, विवेक गौतम, विष्णु शर्मा,नरेंद्र भारद्वाज, अंकित शर्मा, रामकुमार गुप्ता, आदित्य सेमवाल, अजय गुप्ता, विकास गोयल आदि मौजूद रहे। वहीं दूसरी ओर नववर्ष के पहले दिन श्री बांके बिहारी गोशाला और श्री हर मिलाप मंदिर समिति के संयुक्त तत्वावधान में श्रीमद् भागवत कथा का शुभारंभ कलश यात्रा के साथ हुआ। प्रथम दिन की कथा में कथा वाचक ने श्रीमद्भागवत कथा का महत्व बताया। साकेत कॉलोनी स्थित हरमिलाप धर्मशाला में श्रीमद भागवत कथा प्रारंभ होने से पूर्व कलश यात्रा निकाली गई। यात्रा कथा स्थल से शुरू होकर विभिन्न क्षेत्रों से होती हुई कथा स्थल पर ही संपन्न हुई। कथावाचक पंडित राकेश शास्त्री ने कहा कि भागवत की कथा मनुष्य के समस्त पापों को नष्ट करती है। जीवन में सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है। कहा कि भगवान सच्चिदानंद स्वरूप हैं वह सर्वशक्तिमान सभी स्थानों पर समान रूप से निवास करते हैं। उन्होंने गो माता की सेवा के लिए प्रेरित करते हुए कहा कि गाय की सेवा हर मनुष्य को करनी चाहिए। गाय का संरक्षण और संवर्धन होना चाहिए। अगर गाय सुरक्षित है तो हमारा देश, धर्म और संस्कृति सुरक्षित रह सकते हैं। कथा में संजय शर्मा, वेद गुलाटी, वीणा, अर्चना, पूनम त्यागी, अर्चना बलिया, पूजा नंदा, मदन अहूजा, अशोक अरोड़ा, अनिल वालिया, दिवाकर, सूरज, ओम प्रकाश, मंगल, राहुल, मधु गोयल,शकुंतला, विनीता, सुशीला आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *