नगर निगम की सियासी पिच पर गौरव गोयल का पहला सिक्सर, वन-डे मैच की तरह हुई नगर निगम बोर्ड की बैठक

रुड़की । मेयर गौरव गोयल ने नगर निगम की सियासी पिच पर आज अपना पहला सिक्सर लगा दिया है। आज की बोर्ड की बैठक वन-डे मैच की तरह हुई जिसमें धड़ाधड़ प्रस्ताव पारित होते चले गए। बैठक के शुभारंभ से लेकर समाप्ति तक मेयर गौरव गोयल एक बार भी किसी से दबे नहीं। इस बीच जिसने भी सियासत करने की कोशिश की उसे ही उन्होंने उसकी भाषा में जवाब दिया। झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल ने जब बोर्ड की बैठक को अपने अंदाज में गरमाने की कोशिश की और हंगामा होने की आशंका उत्पन्न हुई तो मेयर गौरव गोयल ने उनके हाथ से माइक ही छीन लिया और तड़ातड़ उन पर अनेको सवाल दाग दिए। उनसे पूछा कि नगर निगम द्वारा कराए गए कार्यों पर विधायक के बोर्ड कैसे लग गए। आपने बिना अध्यक्ष की अनुमति के बैठक में बोलना शुरू कैसे कर दिया । आपने नगर निगम बोर्ड की बैठक को अपनी निजी चौपाल कैसे मान लिया। मेयर ने लगे हाथों झबरेड़ा विधायक को यह तक कह दिया है कि जितना भी नगर निगम क्षेत्र में झबरेड़ा विधानसभा का हिस्सा आता है। उसमें अब वह किसी भी कार्य की एनओसी देने से पहले खुद स्थल निरीक्षण करेंगे। इस बीच जब विधायक देशराज कर्णवाल ने कहा कि इंटरनेट पर देख लो उनके द्वारा अपने क्षेत्र में सबसे ज्यादा काम कराए हैं। तो इसके जवाब में मेयर व पार्षदों ने कहा कि वह विकास कार्य इंटरनेट पर नहीं देखते। उन्हें तो धरातल पर कार्य चाहिए। यहां तक कि जब झबरेड़ा विधायक ने पिरान कलियर विधायक और रुड़की विधायक पर टिप्पणी करने की कोशिश की तो मेयर ने उन्हें वहीं पर थाम दिया। मेर गौरव गोयल आज की नगर निगम बोर्ड की बैठक में किस हद तक फॉर्म में थे । इसका अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने हर सवाल का संजीदगी से जवाब दिया और चेतावनी भरे लहजे में कहा कि वह किसी से डरने वाले नहीं है । न तो माफिया के सामने झुकेंगे और ना ही किसी किसी को नगर निगम की संपत्ति खुर्दबुर्द करने देंगे। मेयर यहीं नहीं थमे और उन्होंने साफ शब्दों में कहा है कि नगर निगम बोर्ड पार्षदों व अन्य सदस्यों कि आपसी तालमेल से चलेगा न की किसी बाहरी रिमोट कंट्रोल से संचालित होगा। आज नगर निगम कीबोर्ड में दबंग 2 की फिल्म बनती देखें मेयर गौरव गोयल शुरू से ही आक्रामक तेवर में रहे और उन्होंने आज यह साफ कर दिया है कि वह किसी से डरने वाले नहीं हैं नगर निगम का विकास और भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था देना उनकी प्राथमिकता है।उन्होंने नगर निगम के भूखंडों पर अवैध कब्जे जमाए बैठे लोगों को भी चेता दिया है। कह दिया है कि खुद के उपयोग के लिए लीज पर लिए गए भूखंड आगे किराए पर देने वाले दोषी हैं । उन पर कानूनी शिकंजा भी कसना तय है। नगर निगम की सियासत के जानकारों का कहना है कि नगर निगम बोर्ड की बैठक के पिछले कार्यकाल में भी हुई लेकिन इतनी मजबूती के साथ कभी कोई बैठक नहीं हुई जिसमें मेयर ने जो भी प्रस्ताव रखें सब धड़ाधड़ स्वीकार होते चले गए। आज की बोर्ड की बैठक बिल्कुल टी20 मैच की तरह हुई है नतीजतन 500 से अधिक प्रस्ताव ध्वनिमत से पारित हुए हैं साथ ही 99 करोड का वार्षिक बजट भी पास हुआ है। नगर निगम के सियासतकारों का कहना है कि मेयर की मजबूती की सबसे बड़ी वजह उनके साथ चार में से तीन विधायकों का होना और सारे पार्षदों से उनकी समझदारी कायम होना रही है। उनके द्वारा जो नगर निगम बोर्ड को लेकर होमवर्क किया गया था निश्चित रूप से आज वह देखने को मिला। जानकारी के लिए बता दें कि मेयर गौरव गोयल ने निर्वाचित होने के बाद सभी विधायकों, वरिष्ठ नेताओं व सभी पार्षदों से शिष्टाचार भेंट की । इसके बाद उन्होंने सभी से अपने अपने क्षेत्र के विकास के प्रस्ताव मंगवाए । जो भी प्रस्ताव आए। उन्हें जनहित की दृष्टि से जांचा गया और सभी को मंजूरी दी गई । यही कारण है कि आज पहली बैठक में ही मेयर गौरव गोयल ने शतक लगा दिया। इस पर विधायक प्रदीप बत्रा विधायक हाजी फुरकान अहमद ने उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी। शहर विधायक प्रदीप बत्रा ने तो पहले बोर्ड की पहली बैठक की सफलता पर मेयर की पीठ थपथपाई और उनकी खूब तारीफ की। कहा कि कुछ लोग नगर निगम बोर्ड की बैठक को अपने ढंग से संचालित कराना चाहते थे लेकिन उनकी चली नहीं सभी पार्षदों ने विकास को प्राथमिकता दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *