मयंक गुप्ता को अब भाजपा ने दिया झटका, प्रदेश कार्यकारिणी से कर दिया बेदखल

देहरादून । मयंक गुप्ता को जनता के बाद अब भाजपा ने जोर का झटका दिया है। इस बार उन्हें प्रदेश कार्यकारिणी से वंचित रखा गया है। यानी कि उनके नाम के सामने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष उपाध्यक्ष लिखना शुरू हो गया है। हालांकि मयंक गुप्ता के कुछ समर्थकों कहना है कि उन्हें राष्ट्रीय कार्यकारिणी में स्थान मिलेगा। लेकिन जिस तरह से उनकी रुड़की मेयर पद के चुनाव में करारी हार हुई है । ऐसे में उन्हें भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में विशेष स्थान मिल जाएगा। इसकी संभावना कम ही है। क्योंकि माना यही जा रहा है कि मयंक गुप्ता को प्रदेश कार्यकारिणी में महामंत्री या उपाध्यक्ष पद पर नियुक्त कराने के लिए उनके पेरोकार नेता भी इसलिए बहुत अधिक प्रभावी ढंग से पेरोकारी नहीं कर सके। क्योंकि पिछले दिनों हुए रुड़की मेयर के चुनाव में जो मयंक गुप्ता तीसरे स्थान पर खिसक गए। यदि दूसरे स्थान पर भी रहते तो फिर भी संगठन में कोई पद मिलने की संभावना रहती। लेकिन अब उन्हें कांग्रेस प्रत्याशी से भी कई हजार कम मत मिले हैं । इस कारण प्रदेश कार्यकारिणी में किसी भी पद के लिए उनके नाम पर विचार नहीं हुआ है। हालांकि चुनाव हारने के बाद उनके कुछ करीबी नेताओं ने उन्हें जिला अध्यक्ष बनवाने की भी कोशिश की थी लेकिन तब भी जवाब यही मिला था कि जो मेयर की जीती हुई सीट नहीं जीत सका। भला वह जिला अध्यक्ष बनकर आने वाले पंचायत और विधानसभा चुनाव कैसे जीता पाएगा। वैसे भी भाजपा के करीबी सूत्रों का कहना है कि उत्तराखंड भाजपा में वैश्य समाज के अन्य कई नेता मजबूती से उभरे हैं। इसमें विशेष रूप से नरेश बंसल अनिल गोयल के नाम प्रमुख है। इसीलिए मयंक गुप्ता की उत्तराखंड भाजपा में तवज्जो कम हो गई है। यह बात अलग है कि उनके कुछ जानकार पिछले 1 महीने से यह राग अलाप रहे हैं कि उन्हें जल्द ही कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिलने वाला है। इसमें कुछ का कहना तो यह है कि उन्हें एचआरडीए का अध्यक्ष बनाया जा रहा है तो कई का कहना है कि उन्हें इससे भी बड़ा कोई और पद दिया जा रहा है। लेकिन यह पद कब तक मिलेगा। इस बारे में खुद उन्हें ही पता नहीं। बस वह यही कहते हैं कि मयंक गुप्ता ने उनसे कहा है कि थोड़ा इंतजार कीजिए ।जल्द ही बड़ा ओहदा मिलने वाला है। पर यहां भाजपा के जिले व प्रदेश के नेता कहते हैं कि अभी और योग्य नेता ही समायोजित नहीं हुए हैं ।।ऐसे में मयंक गुप्ता का नंबर भला कहां आने वाला है । उन्हें तो चुनाव लड़ने का भी अवसर मिल चुका है। भले ही वह हार गए हो। जानकारी के लिए बता दें कि सत्ता में अब तक हरिद्वार जिले से ठाकुर सुशील चौहान, राकेश राजपूत डॉ कल्पना सैनी, शोभाराम प्रजापति, विनोद आर्य को महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां मिल चुकी है। प्रदेश संगठन में राकेश गिरी को ओबीसी मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया है। अब जो जल्द ही दायित्व वितरित होने की संभावना है उसमें किसका नंबर आएगा। इसको लेकर कयासबाजी जारी है। हां इतना जरूर है कि एचआरडीए का अध्यक्ष शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक की मर्जी के बिना बनने वाला नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *