सफाईकर्मी पति ने पत्नी को पढ़ाई करवाकर बनवाया पीसीएस अधिकारी, अधिकारी बनते ही बेवफा हो गई पत्नी, जानिए Sdm की कहानी

प्रयागराज । उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में पति-पत्नी से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है जो पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया है। एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी पति के साथ जिसने शादी के बाद अपनी पत्नी को पढ़ा-लिखाकर पीसीएस अधिकारी बना दिया।

मगर पीसीएस अधिकारी बनते ही पत्नी ने अपने उसी पति के साथ बेवफाई कर उसे ही किनारे कर दिया। पत्नी से धोखाखाने के बाद अब पति ने ऑनलाइन में मीडिया से अपनी गुहार लगाई है। बता दे कि सफाईकर्मी पति का नाम आलोक मौर्या है, जो प्रतापगढ़ में तैनात है और उसकी पत्नि ज्योति मौर्या बरेली में एसडीएम पद पर तैनात है। पति का आरोप है कि उसकी पत्नी और उसका प्रेमी दोनों मिलकर उसकी हत्या की साजिश रच रहे हैं। आलोक ने बताया कि साल 2010 में उसकी वाराणसी के चिरई गांव की रहने वाली ज्योति से शादी हुई। ज्योति ने शादी के बाद आगे की पढ़ाई करने की इच्छा जताई। उसके बाद आलोक ने अपनी छोटी सी तनख्वाह में से पैसे काटकर उसकी पढ़ाई के लिए रुपये जोड़े। उन्होंने उसका दाखिला प्रयागराज के एक अच्छे कोचिंग सेंटर में कराया था। साल 2015 में जिस दिन उसके घर दो जुड़वा बेटियां हुईं, उसी दिन पीसीएस का रिजल्ट आया और ज्योति का सेलेक्शन पीसीएस में हो गया। पूरे घर में खुशी छा गई। उस समय ज्योति ने इसका श्रेय अपने पति आलोक मौर्य और ससुर को दिया। मगर आज पीसीएस पत्नी ज्योति ने अपने उसी पति और उसके परिवार वालों के खिलाफ दहेज मांगने, बदनाम करने और उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए धूमनगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। आलोक और ज्योति की शादीशुदा जिंदगी सही चल रही थी लेकिन इसी बीच साल 2020 में ज्योति की मुलाकात होमगार्ड कमांडेंट मनीष दुबे से हुई। ज्योति मनीष के करीब और अपने पति आलोक से दूर होती चली गई। पति आलोक मौर्य का आरोप है कि उसे अपनी पत्नी पर शक हुआ तो उसने मोबाइल चेक किया। इसमें मनीष दुबे, जोकि होमगार्ड कमांडेंट के पद पर तैनात है, के साथ उसकी पत्नी ज्योति मौर्य का ओपन चैट सामने आया। आलोक ने अपनी पत्नी को बहुत समझाने की कोशिश की थी लेकिन वो असफल रहा। इसके बाद उसने 22 फरवरी 2023 को सरकारी आवास पर पीसीएस पत्नी ज्योति और कमांडेंट मनीष दुबे को रंगे हाथों पकड़ लिया था। दोनों ने उसे जान से मारने के लिए दौड़ाया किसी तरह से भागकर उसने अपनी जान बचाई थी। उसके बाद ही उसकी पत्नी ने उसके खिलाफ झूठा केस दर्ज कराया है। बताया जा रहा है कि ज्योति का प्रेमी फिलहाल गाजियाबाद में होमगार्ड कमांडेंट के पद पर तैनात है। इतना ही नहीं उसने अपनी पत्नी को तलाक देने की अर्जी कोर्ट में दे रखी है। वही, ज्योति भी आलोक से तलाक की मांग कर रही है। जानकारी के लिए बता दें कि सफाई कर्मी पति आलोक की शिकायत पर डीजी होमगार्ड वीके मौर्या ने प्रयागराज के डिप्टी कमांडेंट जनरल संतोष कुमार को इस मामले की जांच सौंपी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *